Motivational story in hindi for success

Motivational story in hindi for success

Motivational story in hindi for success

आपके हौंसले  को बढ़ाने वाली   Motivational Stories in Hindi foe successs आपके आशाओ को सफलता को हासिल करने मे मदद करेगा |

सुनील  के पिता कॉलेज में नौकर  है और वो चाहते थे कि सुनील  पढ़ लिख कर एक बड़ा आदमी बने  वो नहीं चाहते थे की वो भी  हमारे तरह गरीबी मे जीवन व्ययतीत करे  | सुनील  भी  में यही चाहता था| की वो अपने माँ बाप का सपना पूरा करे  और जब उसके 12 वीं में अच्छे  नंबर आये तो वह और उसके पापा बहुत खुश हुए|

लेकिन परिवार की आर्थिक दसा ठीक ना होने की वजह से  वो आगे पढ़ाई ना कर सका.अपने परिवार को आर्थिक रूप से मदद करने के लिए सुनील पैसे कमाने के लिए बिना बताए घर छोड़ दिया और बाहर निकाल गया और नौकरी की तलाश करने लगा | और उसे अंत मे काल सेंटर मे जॉब करने लगा |जॉब करने के साथ साथ जो टाइम बचता वो उसे अपने तयारी करने मे लगता |सुनील दिन मे नौकरी करता और रात मे ड तयारी करता |.तयारी करते समय कई परेशानियों का सामना भी करना पड़ा |

लेकिन सभी परेशानियों का सामना करते हुए सुनील ने कभी हार नहीं मानी और जमकर परिस्थतियों का सामना किया |और फिर आखिरकार वो दिन आ गया जिसका इंतजार  सुनील कर रहा  था| लेकिन कई बार किस्मत में वो नहीं होता जैसा हम सभी सोचते है | जब सुनील का रिजल्ट आया तो वो पास ना हो सका और सुनील को बहुत दुख हुआ और वो एकदम टूट  सा गया मगर उसने हिम्मत ना हारी और फिर एकजुट हो कर अपने तयारी मे लग गया|

इसी दौरान सुनील की नौकरी भी छूट गयी और मानो जैसे सुनील के उप्पर परेशानियों का पहाड़ टूट पड़ा और पैसों की तंगी हो गयी मजबूरीया भी एस कदर थी की वो घर भी वापस लौटकर नहीं जा सकता था | और उसने रेल्वे स्टेशन पर कबाड़ बिन रहे बच्चों को देखा और उनसे  पूछने लगा तुम कबाड़ क्यों बिन रहे हो बच्चे ने  जवाब दिया की हम एस कबाड़ को बेचकर पैसे मिलते है जिससे हमारा पेट भरता है |

अब उनके साथ साथ सुनील भी कबाड़ बीनने लगा और साथ ही साथ अपने पढ़ाई पर भी ध्यान देता दिन बिताते गये और इग्ज़ैम का दिन दुबारा वापस या गया और एस बार सुनील ने टॉप करते हुए पहला स्थान प्राप्त किया | एस समाचार को बताने के लिए जब सुनील के माता पिता को फोन किया तो उसके आवाज को सुनते ही ने उनके आँखों से आँसू गिरने लगे और कहा बेटा  हमे  तुम पर  गर्व है |इस प्रकार सुनील कढ़ी मेहनत और लगन  से अपने लक्षय को प्राप्त किया और अपने माँ बाप का नाम रोशन किया |

short motivational story in hindi for success

दोस्तों संभव या  असंभव तो कुछ था ही नहीं  सभव या असंभव हमारे दीमाग पर निर्भर करता है |मनुष्य के जीवन मे सभी कार्य |संभव है |बस उस कार्य करंने के लिए जुनून और जज़्बा होना चाहिए तभी सफलता आपके कदमों मे होगी |

याद रखे ज़िंदगी बहुत प्यारी है और इसे प्यारा  कोई और नहीं आप ही बनाएंगे  आप अपने ज़िंदगी के रचीयता है| ज़िंदगी आपको कुछ नहीं देने वाली ज़िंदगी को मयाना  आपकों देना है |ज़िंदगी को मयाना आप तभी दे सकते है |जब आप हार नहीं मानेंगे आप किसी भी विसम परिस्थिति मे हो चाहे कुछ भी हो जाए हो आप हार ना माने जब  आप हार नहीं मानते है तो एक रियल हीरो बनते है |अगर आप दौड़ नहीं सकते तो चलिए अगर आप चल नहीं सकते तो रेंगिएआप कुछ भी करिए लेकिन हार मत मानिए क्योंकि आप की मंजिल आपका  इंतजार कर रही है | संघर्ष  ही जीवन 

मंज़िले मिल ही जायेंगी भटकते भटकते ही साहि गुमराह तो वो है जो निकले ही नहीं |

अगर किसी चीज़ को दिल से चाहो तो पूरी कायनात उसे तुमसे मिलाने में लग जाती है|

If you want something from the heart, it takes the whole work to match it with you.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *